असफल


की थी कोशिश हमने भी ,
फिर भी हुए नाकाम;
ताने सुनाए लोगो ने ,
बदनाम हुए सरेआम !
कहते हे सफलता पर हमे ,
मिलता हे ईनाम ;
असफल के जीवन से मिले ,
अनुभव का दाम !
लोगो ने जो मिट्टी में मिला दिया ,
हम रोशन करेंगे वो नाम;
हार कर जितना ही होता हे,
बाज़ीगर का काम !
फिरसे उठेंगे जीवन की दौड़ में ,
लेकर खुदा का नाम ;
जान भी लगा देंगे हम ,
कोशिश करेंगे हम तमाम !
मेहनत करेंगे हर पल ,
न करेंगे हम आराम ;
फिर मिलेगी सफलता हमें ,
न करेगा कोई बदनाम !

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem