आओ मिलकर कोरोना भगाएं


आइये इस वायरस को मिलकर भगायें ।
जब तक हारे कोरोना ।।
तब तक का मिशन बनायें ।
आइये कोरोना को मिल कर मिटायें ।।
अपना व अपनों का
साहस एवं आत्मबल बढायें
जैसे अपने देश के ।
दुश्मनों को थे जलाये ।।
कोई चंद्र शेखर आज़ाद तो ।
कोई लक्ष्मी बाई बन जाये ।।
बापू के उपदेशों को ।
याद करें और कराएं।।
बिना हथियार इस युद्व में ।
विश्व व देश को बचायें ।।
नियम का पालन कर ।
खुद पर ही कर्फ्यू लगायें ।।
मोदी जी का समर्थन कर ।
उनके कदम से कदम मिलायें ।।
आइये इस वायरस से देश को बचायें ।
स्वच्छता व सफाई बरतें ।।
अफवाहों पर न जायें ।
समुहों से दूर रहें ।।
किसी के घर न आएं जायें ।
थोड़े दिन परिवार में रह कर ।।
अपने ही घर में छुट्टी मनायें ।
न डरे ,न हारे ,न उदास हों ।।
यह बूढ़े और बच्चों को भी समझायें ।
योगी जी के इस संदेश को ।
जन जन तक पहुचायें !
आइए मिलकर कोरोना को भगायें ।।
जब तक न यह हारे ।
तब तक का मिशन बनायें ।।
आइये मिलकर कोरोना को हरायें ।।।
मैं त्रिशला पाठक छात्रा बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem