इशक-ए-काबिल❤


मोहबत बेशुमार थी
ना-जाने ये कैसे हो गया ।।❤
तुमसे मिलने के बाद
मानो एक अलग सी दुनिया मे खो गया ।।
इशक-ए-काबिल समझा उसके लिये
अदा करता हूँ ।।❤
मानो जा ना........अपने लिये कभी कभी...
तुमहारे लिये खुदा से हर रोज़ दुआ करता हूँ ।।❤

jaswinderkaurbhambra❤

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem