एक शायर


मै शायर हूं एक तपती दोपहर की तरह।
मुझे तलाश है एक ग़ज़ल की जिसकी फितरत हो शबनमि झील की तरह।

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem