औरत


वह औरत है!
कोई उपभोग की वस्तु नही
औरत को उपाधि तो मिली
देवी दुर्गा, काली पूजनीय की!
अपितु हुआ उनका भी शोषण ।

वह औरत है!
कोई उपहार की वस्तु नही
किन्तु उपहार स्वरूप दिया युद्ध में
महाभारत मे द्रौपदी को दाव पर लगाया
पति गौतम द्वारा निरपराध आह्लिया को सौंप दिया ।

वह औरत है!
कोई अग्नि परीक्षा की वस्तु नही
रामायण मे सीता द्वारा अग्नि परीक्षा देना
आधुनिक युग मे पूंजीवाद द्वारा शोषण
स्त्रियों से ज्यादा धन आज सर्वोपरि ।

वह औरत है!
कोई हवस की वस्तु नही
उनका सौंदर्य और यौवन उपभोग के लिए नहीं
औरत की स्वतंत्रता के नारे जरूर बुलंद किए
किन्तु हर रोज होती वह शोषित ।

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem