कफ़न को कभी जेब नहीं होती


तू लाख जमा कर ले हीरे मोती
पर याद रख कफ़न को कभी जेब नहीं होती।।

पैसा पैसा क्यों करता है,पैसे पर तू क्यों मरता है,
खाली हाथ आया था तू ,खाली हाथ ही जाना है।
इसीलिए तू याद रख कफ़न को कभी जेब नहीं होती।।

पैसे की तरफ मत भाग,पैसा कुछ भी नहीं है,
ये सिर्फ तेरे परीक्षा है,क्योकि तुझे ऊपर खाली हाथ ही जाना है,क्यकि तू यद रख कफ़न को कभी जेब नहीं होती हैं।

पैसे पर मरना छोड़ दो,वरना एक दिन पछ्तना पड़ेगा,
क्योकि तुझे कब बुलवा , ये तुझे भी नहीं पता चलेगा,
क्योकि तू याद रख कफ़न को कभी जेब नहीं होती।।

तू लाख जमकर् ले हीरे मोती, पर याद रख कफ़न
को कभी जेब नहीं होती।।

अच्छे वाक्त मै पैसा है काम आता है,
और बुरे वक्त मै वहीं साथ छोड़ देता है,
क्यों की तू याद रख कफ़न को कभी जेब नहीं होती।

अच्छा बुरा सब पैसा है होता है,
और झगड़ना वोही हमें सिखाते है,

क्योकि तू लाख जमा करले हिरे मोती,पर याद रख काफन् को कभी जेब नहीं होती।।

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem