तिनके तिनके चुनकर बनाने हैं कई घोंसले हमें


तिनके तिनके चुनकर
बनाने हैं कई घोंसले हमें
तिनके तिनके चुनकर
बनाने हैं कई घोंसले हमें

टूटते – बिखरते
अरमानों को उठाकर
सजाने हैं अभी
हज़ारों सपने हमें

टूटते – बिखरते
अरमानों को उठाकर
सजाने हैं अभी
हज़ारों सपने हमें

थककर बैठ जाने की
समझदारी नही करना कभी
मिलते – जुलते राहों के ठोकरों की
बनाकर सीढ़ी जीवन में
सदैव आगे चढ़ना है हमें

थककर बैठ जाने की
समझदारी नही करना कभी
मिलते – जुलते राहों के ठोकरों की
बनाकर सीढ़ी जीवन में
सदैव आगे चढ़ना हैं हमें

तिनके तिनके चुनकर
बनाने हैं कई घोंसले हमें
तिनके तिनके चुनकर
बनाने हैं कई घोंसले हमें …..

सदा बहते रहते जल से
ना रुकने का साहस सीखना हैं
जल मिल जाए सागर में जाकर
वो सहनशीलता (धैर्य) रखना हैं

मिला है जो यह जीवन हमें
यूँ ही नही व्यर्थ होने दूँगा
मिला है जो यह जीवन हमें
यूँ ही नही व्यर्थ होने दूँगा

आए हैं अभी नन्हें पंख शरीर पर
बनकर बाज उड़ जाने को
पर बैठे बैठे दो डालो में जीवन
रहकर नही गुज़ारने को

आए हैं अभी नन्हें पंख शरीर पर
बनकर बाज उड़ जाने को
पर बैठे बैठे दो डालो में जीवन
रहकर नही गुज़ारने को

एक दिए ने मेरे विचार है बदला
खुद जल जाना पर ,
अँधरे को दूर है करना

एक बूँद ने सिखाया है
खुद सुख जाना पर ,
प्यासे को कभी प्यासे मत रखना !

तिनके तिनके चुनकर
बनाने हैं कई घोंसले हमें
तिनके तिनके चुनकर
बनाने हैं कई घोंसले हमें …..

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem