तिरंगा प्यारा


भारत मां का झंडा प्यारा,दुनियां में है सबसे न्यारा।
आन बान और शान हमारी,तिरंगा है पहचान हमारी।
राष्ट्र ध्वज से है अभिप्राय,शान्ति, सुरक्षा से हो न्याय।
तिरंगे की है छवि निराली,श्वेत,केसरी और हरियाली।
असहायों को मिले सहारा,भारत मां का झंडा प्यारा।
एक धैर्य से साहस देता,दूजा त्याग का शान्ति संदेश।
हरियाली,खुशहाली से हो,आत्मनिर्भर संपन्न प्रदेश। प्रतीक शौर्यका चक्र निशान,सत्यअहिंसा का वरदान।
लहराता होकर मतवाला,सबका यह आंखों का तारा।
भारत मां का झंडा प्यारा,दुनिया में है सबसे न्यारा।
जहां कहीं भी यह लहराये,मन में राष्ट्र भक्ति समाये।
जीवन ऐसा मिले सभी को,जो राष्ट्र हित में लगा रहे।
फहराये जो भाग्यशाली,शवको मिले सौभाग्यशाली।
शत-शत नमन हो जाये मेरा, राष्ट्र समृद्ध बने हमारा।
भारत मां का झंडा प्यारा, दुनिया में है सबसे न्यारा।
‌‌ बंशीधर पाण्डेय

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem