तू है कुछ खास


मुश्किलों से कभी डरना नहीं
डर के पीछे हटना नहीं
लेना हर गलती से तुम सीख
बस सच्चाई की होगी जीत

लक्ष्य की खोज में तू निकल पड़
जहां ना हो किसी का डर
घमंड है तुम्हारा दुश्मन
उसका कर तू विनाश

किस्मत देती है उनका साथ
जिसमें है कुछ बात खास
और कौन है खास
माता-पिता का आशीर्वाद जिसके पास

गलतियों से तू सीख ले
हर मंजिल तू जीत ले
तुझ में है कुछ खास
लिख दो एक नया इतिहास

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem



This Poems Story

This is motivatonal poem