थम जरा


ऐ ज़िन्दगी जरा थम जरा,
अभी तो मैंने उड़ना शुरू नहीं किया..
अभी तो ठीक से उठा भी नहीं, कुछ मुड़ना शुरू ही
किया,
यूं असहाय मत बन ,
हँसता हूँ अर्थ यह नहीं ,की आँखों में गम है बस जरा-जरा ,
ऐ ज़िन्दगी जरा थम जरा /
ऐ ज़िन्दगी जरा थम जरा /
कुछ अपनों के सताये दर्द लिए बैठा हूँ,
कुछ तेरे तड़पाये वो अश्क़ लिए कहता हूँ ,
ये वक्त है अभी तेरा , शायद हो कभी मेरा ,
हर गाँठ पार करूँगा , यही सोच लिए रहता हूँ...
हँसता हूँ अर्थ यह नहीं ,की आँखों में गम है बस जरा-जरा ,
वीरान रेगिस्तान कभी तो होगा हरा-भरा,
ऐ ज़िन्दगी जरा थम जरा /
ऐ ज़िन्दगी जरा थम जरा /
मैं हारा नहीं हूँ तुझसे ,
उस हार पर भी मेरा कब्जा है ,
बंद कमरे में कैद होना नहीं चाहता ,
जग जीतने का एक ठोस-सा जज्बा है,
एक विश्वास कहीं पनप रहा है,
की मुझपे भी होगा कुछ करम जरा,
हँसता हूँ अर्थ यह नहीं ,की आँखों में गम है बस जरा-जरा ,
ऐ ज़िन्दगी जरा थम जरा /
ऐ ज़िन्दगी जरा थम जरा /

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem