देखना जब में चली जाउंगी


वापस भी नही जब आउंगी ,
होगा यकीन तुम्हे मोह्बत थी ,
कितने कठोर हो,मैं भी देखूंगी ,
देखना जब मैं चली जाउंगी |

अकेले रोना , खुद ही खुद को मनाना,
दोष भी खुद को ही देना ,
तुम्हे सहारा भी नही दे पाऊँगी ,
देखना जब मैं चली जाउंगी |

मौका तो दो, मैं साबित करुँगी,
प्यार , कितना था , कितना रहेगा ,
तुम्हारे सिवाए किसे अपनाउगी,
देखना जब मैं चली जाउंगी |

डर है जिस समाज का ,
वो ही तुम पर हँसेगा,
तन्हाई ,में हमेशा अपने काम आयंगे ,
देखना जब मैं चली जाउंगी |

आज मेरी हरकतों से परेशानी है ,
कल इसे ही प्यार कहोगे ,
फर्क भी नही बताउंगी,
देखना जब मैं चली जाउंगी |

मेरे हक़ जताने से परेशान रहते हो,
मेरी दी हर चीज़ में समाज को लाते हो,
उसी समाज से तुम्हे नही बचाऊँगी,
देहना जब में चली जाउंगी |

तुम्हारी हर पसंद , पसंद की मैने,
हमेशा खुश करना चाहा, देकर दुःख ,
अब ऐसा न क्र पाऊँगी,
देखना जब मैं जाउंगी |

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem