प्यार:एक अनचाहा ख्वाब


प्यार जुनून का दूसरा नाम,
जब हो जाए, तो जान बन जाए,
जब सिर चढ़ जाए तो जुनून,
खो ससे जाते हैं खयालों में,
जब याद करते हैं उन्हें,
और जब मिलते हैं उन्हें,
तो कुछ कह नहीं पाते,
फिक्र दिल में होती है,
एयर जुबान पर एहसास ,
दिल पे छा जाते हैं,
जैसे बस वही है राम,
याद करते हैं उन्हें सुबह से शाम,
जिंदगी भर साथ रहे यही है ख्वाब ,
टूटे न कभी ये ख्वाब,
अमर हो जाए अपना एहसास,
जिंदगी भर साथ रहे,
यही है अरदास,
काश कभी अलग न हों,
हमारा ये प्यार,
यही तो जिंदगी का ,
सबसे हसीन ख्वाब,
रह जाए संग,
जिंदगी भर ए जान,
बस ये बन जाए,
सबसे हसीन ख्वाब।
प्यार एक अनचाहा ख्वाब

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem