प्यार की दौलत


प्यार करने वाले तो करते हैं सिर्फ प्यार
वह नहीं जानते प्यार कम या ज्यादा भी होता है
प्यार करने वाले की नज़र में तो बस
प्यार खुदा की रहमत होता है
नसीब़ वाले को ही मिलती है दौलत प्यार की
किसी-किसी पर ही खुदा मेहरबान होता है
प्यार में तड़प तो प्यार का इक हिस्सा है
वरना प्यार की कीमत कैसे कोई जानेगा
न मिलेगी जुदाई जब तक प्यार में
मिलन के सुखद अहसास को कौन पहचानेगा
मोहब्बत की कीमत को कम नहीं जानो
सबसे महँगी है यह दुनिया में
क्योंकि-यह वह शय है जो
किसी से जबर्दस्ती ली नहीं जा सकती
लाख दौलत लुटाए कोई मोहब्बत की खातिर
यह तकदीर वाले को ही मिलती है
इसलिए कहती है 'रानी'यह सबसे
खुदा ने दी है जिसे मोहब्बत की दौलत
वह उसकी कद्र करना भी जाने
अरे-यह तो वह रहमत है - जिंदगी को
खुशियों से भर देती है
कि-वह शय है यह जिससे अंधेरे में
रोशनी मिलती है
कि रहे कायम दुनिया में यह दौलत सदा
यह दौलत हर ग़म को कम करती है

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem