प्यार है या धोखा है?


हमें दर्द होने पर तुम्हें कोई फर्क नहीं पड़ेगा।
जो गलत होगा वह भी तुम्हें सही सा लगेगा।
बीते हुए लम्हें हमे याद आने से लगेंगे।
मन में बेचैनी और क्रोधिता की भावना छाने से लगेंगे।

ख्वाब तुम्हारे ही थे, हमे पूरी तरह भूल जाना पड़ेगा।
आंखों में झूठ की छाया लेकर तुम्हारा फोटो दिल से मिटाना पड़ेगा।
याद आने पर रो रो कर खुद को संभालना पड़ेगा।
सच तो मेरे सपने थे,तुम्हे सच की पहचान करना पड़ेगा।

तुम्हें भूलने की कोई ना कोई तरकीब निकालना पड़ेगा।
मन मे आए हुए आशा को मिटाना पड़ेगा।
तुम्हें भूल कर ,अपने को सही राह में लाना पड़ेगा।
प्यार करने वालों को और प्यार देने वालों को धोखा का मतलब समझाना पड़ेगा।

अपने अरमानों को धड़कन मे दफनाना पड़ेगा।
नामुमकिन राह से निकल कर नई राह बनाना पड़ेगा।
उम्मीद की किरण फिर से जगाना पड़ेगा।
प्यार को दर्द से हटाना पड़ेगा।
धन्यवाद।

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem