बेटी कहती है।


पापा मुझे जीने दो
मुझे गर्भ में मत मारो
मुझे भी भैया की तरह
इस संसार को देखना है।

मां कितनी कष्ट सहती
9 महीने तक अपने गर्भ में रखती।
अगर आपको लगता है बेटी है बोझ
तो मत लाना दूसरों के घर की बोझ
मत मढ़ना अपने बेटे के सर पर बोझ।

पापा मुझे जीने दो
एक बार बड़ा बन जाने दो
नाम लाखों कमाऊंगी
अपने इन हाथों से
आप की दुनिया सजाऊंगी

फिर कहना बेटी होती है बोझ मत लाना संसार में मुझे समजकर बोझ

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem