मित्रता के अनमोल वचन


दोस्ती की पहचान होती है
जब हमारी वजह से दोस्त के चेहरे पर मुस्कान होती है
कभी रूठना कभी मनाना होता है
दोस्ती मै हर गलती को भुलाना होता है
हर दुख-सुख में साथ होता है
जब दोस्तों के हाथों में हाथ होता है
दोस्तों के साथ घूमना-फिरना होता है
हमेशा खोने वाला ही रोता है
इसमें भाई जैसा प्यार मिलता है
मुश्किल घड़ी में भी दोस्त हमेशा तैयार मिलता है
अंजाना भी दिल के करीब हो जाता है
जब कोई इसे निभाने को तैयार मिलता है
भगवान श्री कृष्ण ने भी इसे निभाया है
इसमें बहुत कम खोया है और बहुत कुछ पाया है
हर वक्त इसने हमें हँसना ही सिखाया है
जीवन के मूल्य का अनुभव करवाया है
बस एक खोने के डर ने ही रुलाया है...
बस एक खोने के डर ने ही हमें रुलाया है।

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem