मेरा अकेले रहना मेरी मर्ज़ी है मजबूरी नहीं !!!


मेरा अकेले रहना मेरी मर्ज़ी है मजबूरी नहीं !!!
मैं खुद में ही पूरी हूँ अधूरी नहीं ,
मेरा अकेले रहना मेरी मर्ज़ी है मजबूरी नहीं!!!

क्या फायदा ऐसे साथ का जो एक मुश्किल मोड़ पे छोड़ जायेगा,
मुसीबत के वक़्त जो रिश्ता तोड़ आसानी से मुखर जायेगा ?
उमीदें लगाने पे जो मेरा दिल बिखर जायेगा ?
हर किसी का मेरे साथ रहना ज़रूरी नहीं,
मेरा अकेले रहना मेरी मर्ज़ी है मजबूरी नहीं !!!
मैं खुद में ही पूरी हूँ अधूरी नहीं ,

मुस्कुराना एक बेहद हसीं तोहफा है तुम्हारे पास ,
मुक्सुराने को मत बनाओ किसी एक के लिए ख़ास ,
कुछ पल की ख़ुशी में ये ज़िन्दगी पूरी नहीं,
मेरा अकेले रहना मेरी मर्ज़ी है मजबूरी नहीं !!!
मैं खुद में ही पूरी हूँ अधूरी नहीं ,

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem