मैं और वो


आदत-सा था, मैं उसके लिए,
.
छोड़ दिया उसने,
.
नशे-सी थी, मेरे लिए,
.
मैं, चाह कर भी, छोड़ न पाया।

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem