मै उस देश की हूँ


मैै उस देश की नागरिक हूँ जहा राजा हरिशचदं और महान अशोक जैसा राजा था
मै उस देश की नागरिक हूँ जहा हर 50मील रूप जाति भाषा मजहब बदल जाता है
मै उस देश नागरिक हूँ जहा राम राज और भरत जैसा भाई पयारा था
मै उस देश की नागरिक हूँ जहा गाँधी सुभाषचदं बोष और आजाद देशभगत ने जनम लिया था
और मै देश की नागरिक हूँ जहा दूध की गंगा बहती
है
मै उस देश की नागरिक हूँ राधा के लिए किशन के मुरली के गुजता मथुरा निराला है
और मै उस देश की नागरिक हूँ जहा मालवी के लिए
BHU को जाना जाता है

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem