ये दोस्त भी बड़े अजीब होते है


आँखों में आंसू भरी थी ।
पर होठो में मुस्कान सजी थी ।।
लोगों ने देख के कहा कितनी खुश है ।
पर उन्होंने पूछा किस बात से दुःखी थी ।।

दिल खोल के टांग खींचाई करते है ।
एक दूसरे को खोने से डरते है ।।
ऐसे दोस्त पाने वाले खुशनसीब होते है ।
ये दोस्त भी बड़े अजीब होते है ।।

क्लास के बीच में हमे हँसाते है ।
उलटी सीधी हरकतों से हमे फसाते है ।।
घर आये हमारे तो सरीफ बनते है ।
मानो अपने घर वालो की हर बात सुनते है ।।

हार मुश्किलों में बड़े काम आते है ।
आधे मुस्किलो में तो यही हमें लाते है ।।
पर खुश रहते है जब साथ दोस्त होते है ।
ये दोस्त भी बड़े अजीब होते है ।।

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem