शोक मत बनाओ


शोक मत बनाओ
कुछ करके दिखाओ ,
क्योंकि
मालिक के मरने का शोक तो जानवर भी बना सकता है ,
पर एक इंसान शोक मनाने के वाझेये कुछ कर दिखता है।

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem