सरहद पर जवान


सरहद पर जवान देकर अपनी जान,
बढ़ा रहे देश का मान |
देश के लिए जान देना उनको है स्वीकार,
देश के लिए वह खड़े होंगे हर बार|
इतना सब होने के बाद बन गए हम तलवार,
मानेगे नही हम हार |
आब जाग चूका है हिंदुस्तान,
कम नही होगी अब इसकी शान|
पकिस्तान का करना सामना है,
हम सबको एक दूजे का हाथ थामना है|
अब न होगी हमसे भूल,
आतंकवादियो को चटा देंगे हम धूल|
भारतीयों ने यह ठाना है,
दुश्मनों को ख़त्म कर दिखाना है |
जीत नही है जयादा दूर,
पाकिस्तान को कर देंगे हम चकना चूर|
जय हिन्द!
वंदे मातरम्

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem