साहस


साहस

मुझमे आसमाँ को जमीन पर लाने'का है साहस |
दुनिया मे अपनी जगह बनाने का ,
पराजय को जय में बदलने का है साहस |
असफलता को सफलता मे बदलने का ,
समाज मे उभरती कुरूतियो पर विजय पाने का है साहस |
हर अकर्म को कर्म मे परिवर्तित करने ,
अनुचित को उचित में बदलने'का है साहस |
असत्य पर सत्य की विजय का,
निराशा से आशा की ओर जाने का है साहस |
रोते हुए को हंसाने का,
भूत से भविष्य की ओर जाने का है साहस |
परतंत्रता की बेड़ियों को तोड़कर स्वतंत्रता पाने ,
पाप को पुण्य मैं बदलने का है साहस |

अधर्म के मार्ग को छोड़ कर धर्म के मार्ग पर चलने ,
हिंसा के पथ को त्याग अहिंसा के मार्ग पर बढ़ने का है साहस |
क्रोध छोड़कर क्षमा करने , पतन से उत्थान की ओर बढ़ने का है साहस |

बचपन से यौवन की ओर कदम बढ़ाने ,
अवनति से उन्नति की ओर अग्रसर होने का है साहस |
पतझड़ को वसंत करने का,
निरक्षरता के अन्धकार से साक्षरता के प्रकाश की ओर एक कदम रखने का है साहस|
विरह के दुःख को छोड़ कर, मिलन के सुख पाने का है साहस |
सभी तरह के दोषो को त्याग कर सद्गुणों को अपनाने,
निंदनीय पात्र ना बनकर ,सज्जन पुरुष बनने का है साहस |
निरुत्साह से उत्साह भरने और कुपथ 'से सुपथ'पर चलने का है साहस |

असभ्य से सभ्य बनने का साहस , दानव से देव बनने का है साहस |
विपक्ष दल को अपने पक्ष मैं करने व् जड़ से चेतन होने की अनुभूति होने का है साहस |
विकर्षण से आकर्षण की ओर जाने , संहार से सृजन की और जाने का है साहस |
भक्षक से रक्षक बनने ,हानि से लाभ की ओर अग्रसर होने का है साहस |
शत्रु से सखा होने ,रावण से राम होने का है साहस |

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem