स्कुल लाइफ


जब रोके स्कुल मे घुसाया है
और रोके स्कुल से निकल गया है
किताबों के बोझ ने कंधा खफाया
फिजिक्स मैथ के बोझ ने सर खफाया

बचपन मे हाथ पर पेंसिल थमाया
मुसिवक्त में पढ़ाई ही काम आया
दसवी में मैथ ने सता सता के मारा
बारवी में फिजिक्स ने हरा हरा के मारा

कंधों को किताबों के बोझ ने झुकाया
रिश्र्वत देना तो खुद पापा ने सीखाया
९९% मार्क्स लाओगे तो घड़ी वरना छड़ी
लिख लिखकर पढ़ा हाथों पर अल्फ़ा बीता गामा का छाला
Conc. H2so4 ने पुरा बचपन जला दाला

कुछ यू इस केमिस्ट्री ने सर खफाया हैं
सपनो में भी यौगिक का संरचना नजर आया है
गानो की जगह अब अध्यापक की डांट ने ली है
कुछ यु ही केमिस्ट्री ने हमारी वात ली है

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem