Attitude


दवा की जगह,दर्द दे जाती हो
मलहम की जगह,घाव दे जाती हो
अक्सर,वो लोग आशिक़ बन जाते हैं तुम्हारे,
जिनको तुम बेमतलब का भाव दे जाती हो।

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem