Broken heart


आधा खवाब आधा इशक़ आधी सी है जिंदगि
मेरे हो ,और मेरे नही, ये कैसी है जिन्दगी
दिल के सारे अरमाँ तो तुमने ही जगाया था
प्यार तो भी तुमने ही सिखाया
पर तुमने कभी ये नी बताया की तुम्हे भरोसा तोड़ना भी आता
,दिल तोड़ना भी आता है और ऊस
टुटे दिल के साथ खेलना भी आता है
बड़ी सिधत से मै अपना प्यार निभाए जा रहि थी
तम्हारि काहि हर एक बात को आपनये जा रहि थी
तूम भी तो खुब प्यार जता रहे थे
पूरे जमाने को हमारे प्यार की कहानी बताये जा रहे थे
फ़िर आचनक ऐसा क्या हुआ
क्या हुआ जो हमारा दिल टुट गया और तुम्हे एक नया खिलौना मिल गया
खैर अब जब मेरा दिल टुट ही गया है तो मै क्या करूँ इस टुटे दिल का
तूम तो जा रहे हो इसे भी साथ लेते जाओ
तुम बताना भुल गये हो पर मैने सुना है तुम engineer हो
तुम्हे टूटी चीजो को जोडना अच्छी तरीके से आता है ।
अच्चा सुनो हो सके तो वो सारे वादे जब यादद आये
साथ बिताये लम्हे जब सताये,
तो बेजिझ्क वापस चले आना
मै तो आज भी नी जाना चाह्ती पर जाना है
क्योकी तुम मेरे हो, और मेरे नही
बड़ा खुबसूरत था ये सफर ऊस फ़रवरी से इस फ़रवरी तक का
मुस्कुराहट छिपाने से अस्क छिपाने तक का
तेरे वॉट्सएप्प स्टेटस पर मेरी फोटो रहने से अपने डीपी रेमोवे करने तक का
प्यार की अनजान राहो से दोस्ती की जान पहचान बन ,जान बन कर अनजान बन जाने का
इशक़ की छाव मे बिछी आशुओ की खुमरी का
बड़ा खुबसूरत सा सफर था हमारा

Kumkum sinha
9708355753

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem