Chahti hu


मैं शायर तो नही,
पर शायरी करना चाहती हूँ ...!
कि मैं शायर तो नही,
पर शायरी करना चाहती हूँ ...!
मैं पंछी तो नही ,
पर एक उड़ान भरना चाहती हूँ ...!
मैं दवा तो नही,
पर दुआ बनना चाहती हूँ ...!
कि मैं दवा तो नही ,
पर दुआ बनना चाहती हूँ ...!
मैं माँ तो नही,
पर माँ की ममता बनना चाहती हूँ ...!
Anshika...

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem