Chalo na ab khatam karte hain


चलो ना अब खतम करते है
बस बहुत हुआ अब कम करते है
चलो ना खतम करते है वो सारी बाते जो दूरियां लाते है
चलो ना खतम करते है वो सारी यादे जो दिल दुखाते हैं
चलो ना साथ मिलकर सारे गम अब हम भुलाते है
साथ हमेशा रहने की बाते अब हम करते है
चलो ना अब खतम करते है
बस बहुत हुआ अब कम करते है
एक बार फिर मुझसे रूठ जाओ तुम
एक बार फिर तुम्हें मनाने के बहाने ढूँढु मै
एक बार फिर मुझसे दूर जाओ तुम
एक बार फिर तुम्हें पास लाने के बहाने
मै ढूंढू मै
एक बार फिर तुम्हें अपना राज़ बताऊँ मै
एक बार फिर फिर तुम्हें अपना हमराज़ बनाऊं मै
एक बार फिर तुम्हें अपनी आवाज बनाऊँ मै
बस मान जाओ ना..... फिर वो गलतियां ना करने के वादे अब हम करते है
चलो ना अब खतम करते है
बस बहुत हुआ अब कम करते है
~ sargam dange

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem