Expancive Shayri


जब तक एक-तरफा थी,
तब तक सिर्फ मेरी थी,
जब से ये हमारी हुई है,
मोहब्बत में मोहब्बत कम
और शिकायतें ज्यादा हो गई

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem