Feelings


लिखने को तो किताब भी लिख दू उनके बारे में
पर याद नहीं रहता ख्यालों की मुलाकात
शिवाय उनके कातिलाना हुस्न ए सबाब,
वो सादगी लाजवाब और सबसे प्यारी चीज़
उनके वो हसने का अंदाज़

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem