Learn From 21st Century Pandemic


कोरोना ने हमें बहुत कुछ सिखाया

ऐ मनुष्य सुन ले आज तेरा अहम चूर चूर हो गया
पूरी संसार जीतने की चाह रखने वाला आज घर पर बैठ गया,
प्रकृति से कोई सर्वोपरि नहीं यह प्रकृति ने हमें आज स्वयं बताया,
कोरोना ने हमें बहुत कुछ सिखाया ||

पशुओं को कैद में रखने वाले
आज चार प्रहर घर में न रह सका
जैसी करनी वैसी भरनी का सन्देश आज उसे समझ में आया
कोरोना ने हमें बहुत कुछ सिखाया ||

आज तेरी सारी तकनीकें धरी रह गयी
आज तेरे सारे हथियार ढेर हो गए
आज जीवन-मृत्यु के बीच लड़ रहीं तेरी काया
कोरोना ने हमें बहुत सिखाया ||

यह सबक हैं हम सब के लिए
प्रकृति का सम्मान करने का
क्यूंकि पुन्हा नहीं चाहिए महामारी का ऐसा साया
कोरोना ने म्हे बहुत कुछ सिखाया ||

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem