Love


मेरे एक हिस्से ने एक अरसे से मुझसे बात नहीं की है,
मेरा दूसरा हिस्सा मुझे अजनबियों की तरह देखता होगा।
वो दूर नज़र के मुहाने पर आँख बंद कर के मुस्कुराता है कोई,
जरूर तेरा चाहने वाला होगा बंद आंखों से तुझे अपनी बांहों में देखता होगा।
तू एक नज़र देख लेता है जिसे, वो सारा दिन किसी से मिज़ाज नहीं मिलाता,
तुझसे आदाब-ओ-अस्सलाम वालेकुम का नाता रखने वाला तो आईने में ख़ुदा देखता होगा।
कल तुझे छत के मुहाने पर हंसते हुए देखा था किसी ने,
मुझे यकीं है, वो हर एक नज़ारे में बस तुझे देखता होगा।
मुझे पता है इस जहाँ का सबसे हसीन नजर देखता होगा,
वो जो अपने हाथों में भर कर तेरा चेहरा देखता होगा।
बस इसी सोच में बैठा रहता हूँ अक्सर,
कि मैं उस से रश्क़ करूँगा या इबादत, जिसको तू हसरत से देखता होगा।
...........

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem