Love life


इस कदर तुम आये मेरी जिंदगी में
तुझे देख मैंने सपने बुने हजार ।।
रोम रोम कहता है मेरा
बस गए हो तुम इन आँखों में।।
खुद को भुला दू , जब देखु तेरी इन आँखों में
सब कुछ छोड़कर रह लू में तेरे साथ
जब तुम थाम लो ये मेरा हाथ ।।
खुद को सबार लू , जुल्फे सुलझा लू
करती रहू मै ये प्रेम के ये सोलह सिंगार।।
आइना जब भी देखु , बस तुम्ही दिखो हर बार
महकने लगी हु आजकल तेरी खुशबू से
निखरने लगी हु ,आजकल तेरे छु लेने से ।।
रोम रोम कहता है मेरा बस गए हो तुम मेरी सांसो में ।।

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem