MAA Tu Mera Suraj hai


मां तू कहती है मैं तेरा चांद हूं
लेकिन मैं कहता हूं तू मेरा सूरज है
जिस तरह सूरज की किरण पेड़ पौधों को जीवन देती है
उसी तरह तूने मुझे जीवन दिया है मां तू मेरा सूरज है
जिस तरह सूरज की किरण पृथ्वी का लालन-पालन करती है
उसी तरह तू मेरा लालन-पालन करती है
मां तू मेरा सूरज है
जिस प्रकार ग्रहण लगने से सूरज का तेज खत्म नहीं होता
उसी प्रकार कोई मुश्किल आने से तेरा धैर्य कम नहीं होता
मां तू मेरा सूरज है
जिस प्रकार सूरज की पहली किरण धरती का अंधेरा हटाती है
उसी तरह तू मेरे जीवन से हर मुश्किल दूर भगाती है
मां तू मेरा सूरज है
जिस तरह सूरज की ऊर्जा से कली खिल जाती है
उसी प्रकार तेरा स्नेह मेरे जीवन में नई उमंग भर जाती है
मां तू मेरा सूरज है
जिस तरह सूरज बिना पृथ्वी का कल्याण नहीं होता उसी तरह मां तेरे बिना मेरा कल्याण नहीं होता
मां तू मेरा सूरज है
जिस तरह सूरज दिन-रात गतिशील रहता है उसी तरह माता मेरी तू निरंतर गतिशील रहती है
माँ तू मेरा सूरज है!!
माँ तू मेरा सूरज है!!

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem