Republic Day


आज गणतंत्र दिवस आया है,
हर तरफ लोकतंत्र छाया है।
न कोई जाती पाती, न कोई रूप रंग,
आज खुल के स्वतंत्र है हर अंग-अंग।
आज देश 'जय हिंद' के लगा रहा नारा है,
आज तो झूम रहा जग सारा है।
आज दिवस है गणतंत्र,
आज पूर्ण रूप से हुआ था देश स्वतंत्र।
अंग्रेजों के शासन से मुक्त होकर,
बनाई है हमने सरकार।
और वोट करना सबका है,
पूर्ण रूप अधिकार।
आज के दिन लागू,
किए गए थे नियम सारे हैं।
और इनका पालन करने,
के कर्तव्य हमारे हैं।
जब अन्य देशों ने किया हम पर वार,
तो हमारे सैनिकों ने भी नहीं मानी हार।
जुट गए सब लेकर तलवार,
लगा दी जान जोखिम में बेशुमार।
आओ सब मिलकर प्रतिज्ञा ले,
कि सारे नियमों का पालन करें।
वरना जो हुआ था देश स्वतंत्र,
फिर से वह हो जाएगा परतंत्र।

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem