Scenic fantasy


बहता हुआ उस हवाने सुकून का एहसास दिलादिया..

सहता हुआ उस पंछी ने आज़ादी का उल्लास बतादिया..

गुज़रता हुआ उस आवारे ने भूख का मतलब समझादिया...

चमकता हुआ उस तारेने किसमत पर करिश्मा करदिया..

ये अनजानसी इम्तिहान तो हमेशा होता ही रहगया...

Poem Rating:
Click To Rate This Poem!

Continue Rating Poems


Share This Poem